प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम | PM Employment Generation Programme

अगर आप कोई रोजगार शुरू करना चाहते हैं या कोई उद्योग लगाना चाहते हैं, लेकिन इसके लिए आपके पास पूंजी नहीं है तो अब चिंता मत करें। क्योंकि भारत सरकार ने देश में छोटे व मध्यम उद्यमों की स्थापना व स्वरोजगार को बढ़ावा देने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम(PMEGP) की शुरुआत की है।

इस कार्यक्रम के तहत लोगों को नए उद्योग या स्वरोजगार के लिए सब्सिडी के साथ 25 लाख तक के लोन दिए जाते हैं। राष्ट्रीय स्तर पर इस कार्यक्रम के क्रियान्वयन के लिए खादी और ग्रामोद्योग आयोग(KVIC) को नोडल एजेंसी के रूप में नामित किया गया है।

आईए अब हम प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम(PMEGP) क्या है, इस कार्यक्रम के उद्देश्य क्या हैं, इसकी योग्यताएं व शर्तें क्या हैं तथा इसके लिए आवेदन कैसे किया जाता है, इन सबके बारे में विस्तार से जानते हैं।

प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (Prime Minister Employment Generation Programme – PMEGP)

Pradhaan Mantri Rojgaar Sarjan Kaaryakram(PMEGP), केंद्र सरकार द्वारा स्वरोजगार को बढ़ावा देने की एक योजना है। इस कार्यक्रम के तहत उद्योगों की स्थापना के लिए 15% से 35% तक की सब्सिडी के साथ 25 लाख तक का लोन दिया जाता है। मैन्युफैक्चरिंग उद्योग की स्थापना के लिए अधिकतम 25 लाख तक जबकि सेवा(सर्विस) क्षेत्र में निवेश करने के लिए अधिकतम 10 लाख तक का लोन दिया जाता है।

प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम(PMEGP) शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों के सभी वर्गों के लिए है। शहरी क्षेत्रों में सामान्य वर्ग के आवेदकों को लोन पर 15% सब्सिडी और आरक्षित वर्ग के आवेदकों को 25% तक की सब्सिडी दी जाती है। ग्रामीण क्षेत्रों में ये सब्सिडी 10% बढ़ा दी जाती है। मतलब अगर आप सामान्य वर्ग के हैं और ग्रामीण क्षेत्र में रहते हैं तो आपको लोन पर 25% तक सब्सिडी मिलेगी, जबकि अगर आरक्षित वर्ग के हैं तो आपको 35% तक सब्सिडी मिलेगी। 

PMEGP का लाभ विशेष रूप से उन लोगों को मिलेगा जो अपना रोजगार या उद्योग शुरू तो करना चाहते हैं, लेकिन पैसों के कमी की वजह से काम शुरू नहीं कर पाते हैं।
प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम का लाभ लेने के लिए शहरी क्षेत्रों में जिला उद्योग केंद्र(DIC), जबकि ग्रामीण क्षेत्रों के लिए खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग(KVIC) से संपर्क किया जा सकता है।

प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम का उद्देश्य

Prime Minister Employment Generation Programe

Pradhaan Mantri Rojgaar Sarjan Kaaryakram का उद्देश्य छोटे व मध्यम उद्योगों को शुरू करने में सहायता प्रदान करना व युवाओं में स्वरोजगार को बढ़ावा देना है। उद्योगों की स्थापना से रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे, जिससे देश में व्याप्त बेरोजगारी की समस्या का भी समाधान मिलेगा। इस योजना के माध्यम से गांवों, कस्बों या शहरों में छोटे-मध्यम उद्योग स्थापित किए जा सकते हैं, जो कई लोगों या परिवारों की आजीविका का साधन बन सकती है। इसका उद्देश्य रोजगार के लिए गांवों से हो रहे पलायन को रोकना भी है। अब तक लाखों लोग इस योजना का लाभ ले चुके हैं।

Pradhaan Mantri Rojgaar Sarjan Kaaryakram के लिए आवश्यक योग्यताएं व शर्तें

  • आवेदक भारत का नागरिक हो।
  • इस योजना का लाभ सहकारी संस्थाएं भी ले सकती हैं
  • आवेदक कम से कम आठवीं कक्षा पास हो।
  • आवेदक की आयु न्यूनतम 18 वर्ष होनी चाहिए।
  • स्वयंसेवी संस्थाएं जिसे किसी अन्य सरकारी योजना से मदद नहीं मिल रही हो वह PMEGP के लिए पात्र हैं।
  • संस्थाएँ सोसाइटी एक्ट 1860 के तहत पंजीकृत हो
  • प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत केवल नए उद्योग शुरू करने के लिए लोन दिए जाते हैं। पुराने उद्योग को बढ़ाने के लिए ये योजना नहीं है।
  • अगर आवेदक पहले से ही किसी सब्सिडी आधारित लोन का लाभ ले रहा है तो उसे प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम(PMEGP) के तहत लोन नहीं दिया जाएगा।
प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम

प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम में किस तरह के उद्योगों के लिए अप्लाई कर सकते हैं?

  • कृषि व वन आधारित उद्योग
  • खाद्य उद्योग
  • खनिज आधारित उद्योग
  • रासायन आधारित उद्योग
  • इंजीनियरिंग और गैर-परंपरागत उर्जा
  • सेवा(सर्विस) उद्योग
  • वस्त्र उद्योग(खादी) को छोड़कर

Pradhaan Mantri Rojgaar Sarjan Kaaryakram के लिए जरूरी दस्तावेज :

  • पासपोर्ट साईज फोटो
  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • आरक्षित श्रेणी का लाभ लेने के लिए जाति या कैटेगरी का प्रमाणपत्र
  • आवासीय प्रमाण पत्र
  • शैक्षणिक प्रमाणपत्र
  • अपने प्रोजेक्ट की रिपोर्ट

प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के लिए अप्लाई कैसे करें?

  • सबसे पहले खादी और ग्रामोद्योग आयोग(KVIC) की आधिकारिक वेबसाइट https://www.kviconline.gov.in/ पर विजिट करें।
  • होम पेज पर PMEGP का एक ऑप्शन दिखेगा, उस पर क्लिक करें।
  • PMEGP पर क्लिक करने पर एक नया पेज खुलेगा जहाँ आपको PMEGP E-PORTAL का विकल्प दिखाई देगा। इस पर क्लिक करें।
  •  अब Online Application Form for Individual पर क्लिक करें।
  • इसके बाद एक रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा। फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी जैसे- आधार नंबर, नाम, राज्य, जिला, जेंडर, मोबाइल नंबर, जन्मतिथि, पैन नंबर, एड्रेस आदि सावधानी पूर्वक सही-सही भरें।
  • अगर आपने किसी उद्योग के लिए कोई प्रशिक्षण/ट्रेनिंग ली है तो उस बारे में लिखें।
  • इसके बाद अपने प्रोजेक्ट और लागत के बारे में लिखें।
  • सभी जानकारी भरने के बाद Save Applicant Data पर क्लिक करें।
  • इसके बाद अपने फॉर्म का प्रिंट आउट ले लें और इसे अपने नजदीकी KVIC/KVIB या DIC में जमा करें, जिसके तहत आपने ऋण के लिए आवेदन किया है। उपरोक्त नोडल एजेंसी द्वारा एक साक्षात्कार प्रक्रिया होगी।
  • अगर आपका प्रोजेक्ट चुन लिया जाता है तो यह संबंधित बैंक को भेज दिया जाएगा। बैंक को सभी जरूरी डाक्यूमेंट्स जमा करने होंगे।
  • बैंक द्वारा आपके प्रोजेक्ट का निरीक्षण किया जाएगा। फिर मंजूरी मिलने पर सरकार द्वारा सब्सिडी की राशि आपके अकाउंट में भेजी जाएगी।
प्रधान मंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के बारे में विस्तृत जानकारी के लिए आप इस वेबसाइट पर भी विजिट कर सकते हैं – https://msme.gov.in/node/1763

Leave a Comment